इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

शनिवार, 8 नवंबर 2008

शुक्र है कि मुझे भी धमकी भरा ई मेल मिल ही गया (व्यंग्य )

न जाने कितने दिनों से यही तमन्ना थी की काश मुझे भी kabhee कोई धमकी भरा ई मेल मिल पता। हालाँकि में पूरी संजीदगी से ये बता दूँ की धमकी भरी फी मेल ( अजी मेरी धर्म पत्नी ) तो मुझे काफी पहले ही मिल चुकी है। लेकिन यहाँ तो ज़माना ई मेल का है न।

रोज सुबह उठ कर जब अखबार पढता हूँ तो यही मिलता है, की फलाना को धमकी भरा ई मेल मिला , और सिर्फ़ कुछ ही दिनों बाद पता चलता है की वो ई मेल भेजने वाला भी कहीं से पकडा गया। कमाल है मुझे धमकी भरा फी मेल भेजने वाले, ( मेरे सास -ससुर ) तो कभी नहीं पकड़े गए, खैर। बात तो ई मेल की हो रही थी। जहाँ देखो इसी बात की चर्चा थी , हम दोस्तों के बीच भी।
यार कमाल है हम भी रोज ई मेल , ई मेल करते हैं मगर कमबख्त कभी ऐसा हुआ है की गलती से कोई धमकी भरा ई मेल हमें भी मिल जाए। मैंने मित्र से कहा।
अमा तुम कौन देश के प्रधान मंत्री हो , या की कौनो गुंडे हो, एक्टर, क्रिकेटर, कुछ भी नहीं हो तो तुम्हें कौन ई मेल करेगा बे।
क्या मतलब एक आम आदमी की कोई औकात नहीं उसकी कोई वैल्यू नहीं , अब तो मेरा मन करता है की अपने सब्जी वाले को ही एक धमकी भरा ई मेल भेज दूँ की , बेटा सुधर जा यूँ ही सब्जी के भाव बह्दाता रहा तो देखना मैं बड़े बड़े गमले खरीद कर ख़ुद के लायक सब्जी उगा ही लूँगा। और मैंने कौन सा सब्जी का निर्यात करना है, घर चलाने के लिए तो उगा ही लूँगा , फ़िर सोचा की पकडा गया तो उधार की सब्जी भी बंद हो जायेगी।
लेकिन अचानक ही सपना सच हो ही गया, आज ही एक बैंक से धमकी भरा ई मेल आया है, की बेटा तुम लोगों नो यहाँ हमारे बैंक से लोन लेकर सारी ऐश जुटा ली है, उससे अमरीका सरकार तक डूबने वाली है, चुपचाप सारे पैसे लौटा दो , वरना खैर नहीं।
हमने मित्र से सलाह ली, उसने कहा, चुपचाप बैठो रहो, ख़बर गर्म है की बैंक अपनी मौत ख़ुद ही मरने वाला है, कमबख्तों के पास इतने पैसे भी नहीं बचने वाले हैं की आगे से कोई ई मेल करें।
मगर यदि बैंक बच गया तो,
तो भी चिंता नहीं, धमकी वाली ख़बर से तुम रातोंरात लेनदारों के हीरो तो बन ही जाओगे।
शुक्र है कि मुझे भी धमकी भरा ई मेल मिल ही गया।

7 टिप्‍पणियां:

  1. सचमुच बड़े नसीबों वाले हो अजयजी, आपको धमकी भरा ईमेल मिल गया और वो भी बैंक से, हमें तो आपसे ईर्ष्या हो रही है।
    मजेदार, हास्य से परिपूर्ण रचना।
    ॥दस्तक॥
    गीतों की महफिल
    तकनीकी दस्तक

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह वाह!! बधाई हो धमकी भरे ईमेल मिलने की. शुभकामनाऐं कि आगे भी मिलती रहें और आप सेलिब्रेटी हो लें. :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. धमकी भरा "फ़ीमे्ल" भेजने पर तो आज तक कोई नहीं पकड़ा गया, यह बात सही है :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. achha jee, yahan hamree jaan par aan padee hai aur aap maje le rahe hain, chaliye aap sabko bhee dhamkee bhara e mail milega, aur koi nahin to main khud bhej doonga.

    उत्तर देंहटाएं

मैंने तो जो कहना था कह दिया...और अब बारी आपकी है..जो भी लगे..बिलकुल स्पष्ट कहिये ..मैं आपको भी पढ़ना चाहता हूँ......और अपने लिखे को जानने के लिए आपकी प्रतिक्रियाओं से बेहतर और क्या हो सकता है भला

साथ चलने वाले

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...