इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

शुक्रवार, 29 जनवरी 2010

रोज़ नए दर्द, संभालता हूँ मैं

हर पल,
इक नया ,
वक़्त ,
तलाशता हूँ मैं॥

जो मुझ संग,
हँसे रोये,
वो बुत,
तराश्ता हूँ मैं॥

मेरी फितरत ,
ही ऐसी है कि,
रोज़ नए दर्द,
संभालता हूँ मैं॥

परवरिश हुई है,
कुछ इस तरह से कि,
कभी जख्म मुझे, कभी,
जख्मों को पालता हूँ मैं॥

सुना है कि, हर ख़ुशी के बाद,
एक गम आता है, तो,
जब भी देती है, ख़ुशी दस्तक,
आगे को टालता हूँ मैं॥

वो कहते हैं कि,
धधकती हैं मेरी आखें,
क्या करूं कि सीने में,
इक आग उबालता हूँ मैं॥


क्या करूं , ऐसा ही हूँ मैं....

11 टिप्‍पणियां:

  1. वाह,आज तो कविता का मूड बन आया अजय भाई ।

    झा जी, आप जैसे भी हैं, अच्छे हैं।
    ये बात दावे से कहता सकता हूँ मैं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. हर पल,
    इक नया ,
    वक़्त ,
    तलाशता हूँ मैं॥

    जो मुझ संग,
    हँसे रोये,
    वो बुत,
    तराश्ता हूँ मैं॥

    मेरी फितरत ,
    ही ऐसी है कि,
    रोज़ नए दर्द,
    संभालता हूँ मैं॥
    Ek tarashi huee rachana!

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक अदम्य जिजीविषा का भाव कविता में इस भाव की अभिव्यक्ति हुई है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुना है कि, हर ख़ुशी के बाद,
    एक गम आता है, तो,
    जब भी देती है, ख़ुशी दस्तक,
    आगे को टालता हूँ मैं॥

    जीवन एक चक्र है बिल्कुल सही बात कही आपने हमें अपनी खुशियों में इस कदर नही मशगूल हो जाना चाहिए की आने वाली किसी अनहोनी का समाना न कर पाएँ....सुंदर भाव...धन्यवाद अजय भैया ..

    उत्तर देंहटाएं
  5. अरे भाई लगता है की मुझसे भी आप कविता करवा के ही छोड़ेंगे ...सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुना है कि, हर ख़ुशी के बाद,
    एक गम आता है, तो,
    जब भी देती है, ख़ुशी दस्तक,
    आगे को टालता हूँ मैं॥
    वाह वाह बहुत सुंदर लेकिन दर्द भरी रचना.
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत गहन भाव लिये है ये रचना.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुना है कि, हर ख़ुशी के बाद,
    एक गम आता है, तो,
    जब भी देती है, ख़ुशी दस्तक,
    आगे को टालता हूँ मैं॥

    वो कहते हैं कि,
    धधकती हैं मेरी आखें,
    क्या करूं कि सीने में,
    इक आग उबालता हूँ मैं॥

    वाह, क्या कहूँ ? बहुत ख़ूबसूरत !!

    उत्तर देंहटाएं
  9. आग उबालने का बिम्ब अद्भुत है

    उत्तर देंहटाएं

मैंने तो जो कहना था कह दिया...और अब बारी आपकी है..जो भी लगे..बिलकुल स्पष्ट कहिये ..मैं आपको भी पढ़ना चाहता हूँ......और अपने लिखे को जानने के लिए आपकी प्रतिक्रियाओं से बेहतर और क्या हो सकता है भला

साथ चलने वाले

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...