इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

गुरुवार, 11 मार्च 2010

बधाई दीजीए ....ये इस ब्लोग की पांच सौंवी पोस्ट है ....मगर वाह नहीं कहिएगा

ये इस ब्लोग की पांच सौवीं पोस्ट है , या शायद उससे एक ज्यादा ...है न बधाई देने की बात ....मगर नहीं वाह मत कहिएगा ......आज मन वाह नहीं आह कहने को कर रहा है .............आह ....!!!!!!!!!!!







मैं भीष्म नहीं ,
मैं अजर नहीं ,
मारो , मर जाऊंगा ,
मैं कभी भी अमर नहीं ॥

मैं खडा देखता हूं ,समय को ,
और समय देखता है मुझको ,
तुम चलाओ जब तक शैय्या बने ,
खत्म न हो जाए "शर" कहीं ?


टूटा तोडा गया कई बार,
हर बात तुम्हीं ने जोडा भी ,
बस डर इस बात का रहता है , इस टूट- अटूट में ,
कभी मैं भी न जाऊं ,बिखर कहीं .........

37 टिप्‍पणियां:

  1. किस बात का ग़म है भाई
    देने भी नहीं देते बधाई।

    चलिए मुबारक !

    उत्तर देंहटाएं
  2. आह,बस पांच ही सौ। हजार करते तो कोई बात होती। आपने वाह लिखने से मना किया था इसलिए ऐसा लिखा।..

    उत्तर देंहटाएं
  3. भईया हजार नहीं कई हजार करोड़ लिख डालो मैं तो यही शुभकामनाएं दूंगा और बधाई भी ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. :( ये क्या है? पांच सौवी पोस्ट और इतनी उदास? हंसने तक पर पाबंदी लगा दी आपने?
    बधाई हो, पंच-शतक पर.

    उत्तर देंहटाएं
  5. नो नो नो वाह!! बस, बधाई और बधाई और शुभकामनाएँ...५०० पूरी नहीं हुई बल्कि हजारे के लिए बस ५०० बची हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  6. पाँच सौ वीं पोस्ट के लिए बहुत बहुत बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत बहुत बधाई और हार्दिक शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  8. जिंदगी में ये टूट फूट चलती रहती है...भावपूर्ण रचना ....बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  9. बधाई और भविष्य के लिए ढेर सारी शुभकामनाए....ऐसे ही जारी रहें ...........

    उत्तर देंहटाएं
  10. जख्म पर जख्म खाता रहा
    फ़िर भी दिल मुस्कुराता रहा
    तीर तो इस कदर लगते रहे
    के दर्द का अहसास जाता रहा।

    ये दुनिया ऐसे ही चलनी है।
    500 पोस्ट की बधाई हो बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  11. अरे आप को पांच सॊ वार बधाई, इस पांच सॊवी पोस्ट पर.

    उत्तर देंहटाएं
  12. बधायी ! यही चाहिए थी न तो लीजिये नोश फरमाईये !

    उत्तर देंहटाएं
  13. ये इस ब्लोग की पांच सौंवी पोस्ट है ....'
    मैं भीष्म नहीं ,
    मैं अजर नहीं ,
    कौन मानता है कि वह भीष्म है चाहे पाँच सौवीं पोस्ट ही क्यों न लिख ले.
    बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  14. 500वे पोस्‍ट पर बहुत बधाई .. कोई भी कारण हो .. इतना उदास होने की आवश्‍यकता नहीं !!

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएं....!!

    उत्तर देंहटाएं
  16. इस टूट अटूट में कही मैं न बिखर जाऊं ....
    अच्छी कविता ...
    पाँच सौ वीं पोस्ट की बहुत बहुत बधाई ..!!

    उत्तर देंहटाएं
  17. आपने 500 तीर मारे हैं, लेकिन किस पर? ये सारे ब्‍लागर तो अजर-अमर हैं। आपके तीर सलामत रहे, बहुत यही दुआ है।

    उत्तर देंहटाएं
  18. bahut badhaii....bhagvaan aapkee jaisee urjaa hamare andar kab dega.....

    उत्तर देंहटाएं
  19. अरे अजय पांच सौंवी पोस्ट पर बधाई और भाई हम तो वाह ही कहेंगे। :)

    उत्तर देंहटाएं
  20. रचना बढ़िया लगी. पांच सौ वी पोस्ट की बधाई स्वीकार करें और दस हजार पोस्ट लिखें शुभकामना के साथ

    उत्तर देंहटाएं
  21. पाँच सौ वीं पोस्ट के लिए बहुत बहुत बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  22. वाह कहने का मन तो हमारा भी नहीं है
    क्योंकि हमारा मन कहता है
    वाह! वाह!! वाह!!!

    खुश रहें, खुश रखें

    उत्तर देंहटाएं
  23. पांच सौंवी पोस्ट की बहुत बहुत बधाई अजय जी!

    उत्तर देंहटाएं
  24. मेरी तरफ से भी बधाई अजय जी , लिखते रहिये , बहुत ही अच्छा लिखते हो ! कवितायें तो खासकर !

    उत्तर देंहटाएं
  25. भाई! जब पाँच सौ तक नहीं टूटे-बिखरे तो अब डर कैसा। भीष्म को "इच्छामृत्यु" का वर है। वर है, तो शर का डर कहाँ? आप शीघ्र ही हज़ार पूरे करें, ऐसी हमारी कामना है, और यह भी कि उस पर भी हमें टीपने का अवसर मिले, ऐसे ही…

    फ़ुटनोट: मेरी अज्ञानता क्षमा हो, आप से ही नहीं, सभीसे निवेदन है। मैं बहुत दिन तक अपने ही बज़ पे प्रतिक्रिया दे कर खुश था, फिर देखा कहीं छप नहीं रही। फिर भी, लोगों के बज़ पर टिप्पणी देता फिरा…
    अब समझ आया है कि यह बज़ केवल पढ़ने के लिए है, प्रतिक्रिया तो छाप पर देनी होती है। सो बधाई! हज़ार बार बधाई।
    अब बताएँ आप क्या कर लेंगे भाई?

    उत्तर देंहटाएं
  26. यानी वर है, तो शर का डर कहाँ?
    (हम ऐसे ही हैं, हम पर असर कहाँ!

    उत्तर देंहटाएं
  27. बहुत अच्छी प्रस्तुति।
    इसे 13.03.10 की चिट्ठा चर्चा (सुबह ०६ बजे) में शामिल किया गया है।
    http://chitthacharcha.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  28. बधाई के साथ एक कविता का अंश
    क्या आप सोच सकते हैं
    सर से पाँव तक
    असंख्य तीरों से बिन्धकर भी
    कोई ज़िन्दा रह सकता है

    अगर आप ध्यान से सोचें तो
    इसमें आश्चर्य की कोई बात नहीं
    मेरे देश के आम परिवार का पितामह
    कितने ही तीर खाकर अब तक ज़िन्दा है
    महंगाई का तीर
    भुखमरी का तीर
    ग़रीबी का तीर बेरोज़गारी का तीर
    अशिक्षा का तीर
    कुशिक्षा का तीर
    दंगई का तीर
    नंगई का तीर...

    उत्तर देंहटाएं

  29. 500 पोस्ट पर टाइम खोटी करने के बाद ऎसा ही लगता होगा । बहुत स्वाभाविक कविता है.. मैं ऎसी कवितायें नहीं लिख पाता, लिहाज़ा 498 वीं पोस्ट तक आकर पिछली 100-50 को हलाल कर देता हूँ । कोई मलाल न रहे.. इसलिये आपके दुःख में भी आपके साथ खड़ा हूँ.. :)

    उत्तर देंहटाएं
  30. पांच सेकड़ा पूरा करने की बधाई।
    आत्मदया अचअचा गुण नहीं है। इसे तजना जरूरी है।

    उत्तर देंहटाएं
  31. पांच सेकड़ा पूरा करने की बधाई।
    आत्मदया अचअचा गुण नहीं है। इसे तजना जरूरी है।

    उत्तर देंहटाएं

मैंने तो जो कहना था कह दिया...और अब बारी आपकी है..जो भी लगे..बिलकुल स्पष्ट कहिये ..मैं आपको भी पढ़ना चाहता हूँ......और अपने लिखे को जानने के लिए आपकी प्रतिक्रियाओं से बेहतर और क्या हो सकता है भला

साथ चलने वाले

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...