इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

मंगलवार, 27 अक्तूबर 2009

जो बिलबिलाए...उहे है बिलागर ..खांटी बिलागर...



देखिये जी आप एकदमे ठीक समझ रहे हैं.....हमहुं संगम सम्मेलन का ही कौनो बवंडर पर सवार होकर एक ठो पोस्ट ठेलने की तैयारी कर बैठे हैं। देखिये देखिये अब ई मत कहियेगा कि आपहु शूरू हो गये....आप तो गईबे नहीं किये थे...अरे जाना छोडिये आप लोगन को बुलाया भी नहीं गया था जी...। अजी हम ऊ सब काहे रीपीट करेंगे जी....जब लोग बाग लिखिये रहे हैं...लिख का रहे हैं....एक दम से दाग रहे हैं...बोफ़ोर्स का मुंह खोल दिये हैं। इत्ता चर्चा तो कुंभ का नहीं हुआ होगा जतना ई सम्मेलन/संगोष्ठी/महासम्मेलन/कार्यक्रम/मेला/चौपाल...बस जी एतने आ रहा है अभी मन में......का हुआ ।

दरअसल पिछले दिन ..गाम की तरफ़ गये तो ....हम दू ठो बिलागर ...अरे दूसरे ओही चिट्ठा सिंह जी ...(अब तो सिंग भी बदल दिये हैं..काहे से राजा बाबू को एतराज न हो ) बतियाते जा रहे थे....तो चच्चा बीच में मिल गये। अब ई मत पूछियेगा कि चच्चा कौन। अरे एके गो चच्चा हैं...जिनके हम सर्टिफ़ाईड बच्चा ..माने भतीजा हैं।

पूछे लगे ," तब और बताओ..का सब चल रहा है ..का बने ...कुछ बनबो किये कि बस खलिया बंदूक ढन ढन"


हम कुछ कहते कि मित्र कह उठे ...," अजी का बात कर रहे हैं चच्चा....हम इनको अपने फ़ील्ड में ले आये हैं....लईका आपका अब आम नहीं रहा ......एक दमे खासमखास बिलागर हो गया है ॥"


आंय ई का होता है जी ...ई तो सुनने में कौनो अजगर , कारीगर, बाजीगर जैसा लग रहा है ..?


हां चच्चा होता तो कुछ अईसने टाईप का होता है ...मुदा का कहें आज कल सब इहे बन जाना चाहता है..माने जानिये कि ..आप इंसान हों न हों ....बिलागर होना जरूरी है.....काहे से कि बिलागर हो जाने के बाद आप इंसान, हैवान, शैतान, ....ई सब टाईप से मुक्त हो जाते हैं।


"अरे जादे नहीं छोडो हमको पता है ..ई पिछला दिन अभी तुम लोग अपने जैसे ही कुछ अजगर ,बाजीगर , का कुछ संगम मेला ..माने कुंभ जैसा कुछो था न जी...सुने हैं बडा ....कपडा उतारा -उतारी हुआ जी....आ हुआ का अभियो चलिये रहा है "।

"हम सिटपिटाते इससे पहिले ही ..मित्तर चिट्ठा बोल पडे," अरे चच्चा तुमका पता तो हईये नहीं है...अब ई बताओं..आदमी..अरे माने बिलागर ...ओह मान लो थोडिये देर के लिये कि जौन बिलागर सब था उ सब आदमीए था ...तो संगम जायेगा ..तो स्नान करबे करेगा न गंगा जी में...और गंगा जी में स्नान के लिये कपडवा तो उतारना ही न पडेगा जी....अब ई तो स्नेह है सबका कि ...सब एक दोसर का ही प्रेम प्यार से उतार दिया ...ई तो हम लोगन का चलता रहता है । देखो चचा ...बिलागर माने ...उ...चीज,प्राणी, जंतु,जीव ...जो बिलबिलाए...बिलबिलाते रहे। वजह होने पर भी बिना वजह भी , मुद्दों पर, बगैर मुद्दों पर , चिरकुटई पर, टिप्पणियों पर ....अब का गिनायें...बस ई समझिये कि जो बिलबिलाता हो बही ब्लागियाता भी है । बकिया सब तो ओइसे ही टाईम पास है ...।"

चचा कहां मानने वाले थे...कहे लगे .".चलो मान लिया ..मगर ई तो बताओ कि ..तुम्हरा चीफ़े गेस्ट ....जो बहुते नाम वाला था सुने हैं होस्टाईल हो गया जी....का तो कहा कि ई सब तो कचरा है जी । रे तुम लोग तो कबाडी हो गया न । "

अरे चचा तो जो लोग बुलाए थे ...उन्हीं को कहां मालूम था कि उ नाम वाले ..हमही को बेनाम कर जाएंगे ...फ़िर ठहरे चीफ़ गेस्ट....इहे गुस्ताखी तनिक इहां बिलागिंग में करते न तब देखते आप....ई जौन पोस्ट सब आ रहा है ..एकर दस गुना आता नाम से ....आ टीप आता बेनामी बन के ....नाम तो नाम ....काम भी तमाम हुई जाता उनका ।

देखिये हम जान रहे हैं ..जो इससे जादे बताए तो आप भी चचा की तरह बिलबिला के हमही को .......छोडते हैं जी ....फ़िर कहियो......

12 टिप्‍पणियां:

  1. अजय बाबु, बहुत बहुत धन्यवाद ....आज पता चल गया हम भी 'बिलागर' है कहे कि 'बिलबिलाते' तो हम भी है !
    बहुत बढ़िया लगे रहिये !

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक अनुरोध है, अगर आप बुरा ना माने तो कृपया तिरंगे को सब से ऊपर जगह दे देवें !

    उत्तर देंहटाएं
  3. राम राम जी , हम नही पडते किसी लफ़डे मे... अपून तो मस्त मलंग है जी

    उत्तर देंहटाएं
  4. बात तो खरी खरी है पर ये बिलागरवा लोगन की समझदानी मॆं आना नहीं न चाहिये, तबहि जो लिखें हैं न इसका फ़ायदा होगा, नहीं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. शेफ़ाली जी के आदेशानुसार ..चैट पर मिली टीप को यहां चेपा जाये

    "काहे झूठ बोल रहे हैं झा जी ...लगता है अभी आपने ढंग से चीर फाड़ नहीं की है ......ब्लागार माने ........बिला वजह गर्र गर्र ..."

    उत्तर देंहटाएं
  6. शिवम भाई,
    मैं भी यही चाहता हूं..मगर इत्ता आता कहां है...आज ही तकनीकी मित्रों की आपात मदद ली जायेगी और झंडे को सबसे उपर किया जाएगा । स्नेह और साथ बनाए रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  7. settings
    layout
    drag the gadget with html flag to come to top
    you can drag the gadjets to give them a sequence of your choice its all very simple mr ajay

    उत्तर देंहटाएं
  8. गंगा जी में स्नान के लिये कपडवा तो उतारना ही न पडेगा जी....अब ई तो स्नेह है सबका कि ...सब एक दोसर का ही प्रेम प्यार से उतार दिया ...ई तो हम लोगन का चलता रहता है ।

    -हा हा!! कितने स्नेही ब्लॉगर हैं सब!! प्यार देख कर आँख छलछला आई.

    उत्तर देंहटाएं
  9. अभी संगम देखा और अब भेडाघाट की तैयारी कर लो अभी से निम्रंत्रण दे रहा हूँ

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपस का ऎसा प्रेम भाव,स्नेह तो बना रहना चाहिए.....
    समीर लाल जी की तो आँखें छलछला आई :)

    उत्तर देंहटाएं
  11. लिजीये शिवम भाई आपकी आज्ञा का पालन कर दिया है ...

    रचना जी आपका भी बहुत बहुत शुक्रिया ..

    उत्तर देंहटाएं
  12. अरे! हमारी नज़र आज पड़ी यहाँ!!

    ब्लॉगर
    माने

    बिलबिलाते
    और
    बिला वजह गर्र गर्र

    ये उपमायें भी खिलखिला गईं

    बी एस पाबला

    उत्तर देंहटाएं

मैंने तो जो कहना था कह दिया...और अब बारी आपकी है..जो भी लगे..बिलकुल स्पष्ट कहिये ..मैं आपको भी पढ़ना चाहता हूँ......और अपने लिखे को जानने के लिए आपकी प्रतिक्रियाओं से बेहतर और क्या हो सकता है भला

साथ चलने वाले

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...