इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

मंगलवार, 30 अक्तूबर 2007

ब्लू लाइन सेना में शामिल

रक्षा के क्षेत्र में आज एक और नयी उपलब्धि जुड़ गयी है । आज सेना ने अपनी सबसे आधुनिक सैन्य टुकडी के लिए ब्लू लाइन बसों के काफिले को शामिल कर ही लिया। दरअसल पिछले कुछ समय में ब्लू लाइन बसों ने अपनी अचूक मारक क्षमता और शत प्रतिशत परिणाम के कारण सेना के आधुनिक मारक वाहनों में शामिल होने कि जबर्दस्त दावेदारी पेश के थी। जब भी वह सड़कों पर दौड़ी , खाली हाथ नहीं लौटी, कभी कभी तो १००-५० का सफाया कर दिया। स्वदेश निर्मित इस वाहन की खासियत ये है कि इसे चलाने के लिए पहले से ही दक्ष चालक हमारे पास मौजूद हैं। उनकी दक्षता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि पूरी दिल्ली पुलिस भी मिलकर इन्हे काबू में नहीं कर पाई। एक अन्य खासियत ये है कि इंधन के रुप में चाहे डीज़ल का इस्तेमाल किया जाये या सी एन जी का इसकी मारक क्षमता उतनी ही रहती है । उम्मीद है कि जल्दी ही ये ब्लू लाइन टुकडी बोफोर्स तोपों का स्थान ले लेगी.

1 टिप्पणी:

मैंने तो जो कहना था कह दिया...और अब बारी आपकी है..जो भी लगे..बिलकुल स्पष्ट कहिये ..मैं आपको भी पढ़ना चाहता हूँ......और अपने लिखे को जानने के लिए आपकी प्रतिक्रियाओं से बेहतर और क्या हो सकता है भला

साथ चलने वाले

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...