इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

गुरुवार, 23 सितंबर 2010

ब्लॉगिंग में तीन साल पूरे........अब करूंगा " ब्लॉग बवाल "शुरू .........अजय कुमार झा



ब्लॉगिंग जब शुरू की थी .....तो वो एक खूबसूरत इत्तेफ़ाक था .....उसके बाद ये एक शौक बनता गया .....और कब धीरे धीरे ये एक आदत में तब्दील हो गया ....ये पता ही नहीं चला ...। जो सफ़र कभी एक ब्लॉग से शुरू हुआ था ...वो आज कुल उन्नीस ब्लॉग पर पहुंच गया है ..। हालांकि मुझे इस बात के कई बार ..मित्रों की नसीहत मिल चुकी है कि ब्लॉग एक ही होना चाहिए ....मगर करूं क्या ..जब इस खोपडे में चौबीसों घंटे इतनी खुराफ़ात होती रहती हैं कि ...यदि सिर्फ़ एक ब्लॉग रखूं तो ...चौबीस घंटे मुझे खुद अपनी ही पोस्टें दिखाई देती रहेंगी । तो मैं बता रहा था कि ...चलते चलते आज ....उस पडाव पर भी पहुंच गए कि ...राह के पत्थर पर लिखा मिला है कि ...आपके तीन साल पूरे हुए ...अब आगे बढें ।

इस बीच ........ब्लॉगिंग में नियमित हुआ तब से ..ब्लॉगिंग का असली स्वाद मिला । और यकीन मानिए ..मुझे तो इसमें हर फ़्लेवर का मजा मिल चुका है .........। बोरे बोरे भर के मीठा ....कनस्तर भर भर के खट्टा ...और कट्टा भर भर के ...नमकीन भी ..कई बार कसैला भी ......मगर कहते हैं न कि ....कभी कभी ....नीम और करेला का कसैलापन भी चखना चाहिए ताकि ...स्वास्थय का संतुलन बना रहे । और ईश्वर की कृपा से अब तक ये संतुलन बना ही हुआ है...आगे उसी प्रभु की कृपा । इस सफ़र में आप सब साथियों का भरपूर साथ और स्नेह मिला ....और अब भी मिल रहा है । कारवां बढते बढते कब इतना बडा हो गया ..इसका तो सिर्फ़ समय ही गवाह है । जहां तक ब्लॉगिंग में सक्रियता की बात है , तो बेशक इस ब्लॉगिंग ने मेरे बहुत से नियमित आदतों पर फ़र्क डाला , कई आदतों को बदल भी डाला ..और कई नई आदतें डल गई ....मगर इसके बावजूद ..ब्लॉगिंग को मैंने उस कडी के रूप में अपना लिया ...जिसने मुझे इन सबसे कहीं न कहीं जोडने में सहायती ही की ।

इस बीच मुझ से जुडे आंकडे जब मैंने खुद टटोले तो वो भी कुछ कमाल ही निकले ...अब तक कुल एक हजार तीन सौ से अधिक पोस्टें ..वो भी सिर्फ़ अपने ब्लॉग्स पर ..दिखा रहा है । मगर सब जानते हैं कि ..मुझे पोस्ट लिखने से ..कम से कम दोगुना आनंद ..तो जरूर ही टिप्पणियां लिखने में आता है । इन सबने कुल मिला कर ऐसा जाल बिछा दिया कि आज जब मैं गूगल सर्च पर खुद से जुडे परिणाम देखता हूं तो .......अजय कुमार झा के रूप में ...४,४९,००० और ५४,६०० परिणाम दिखाता है ..जबकि जागरण जंक्श्न आदि बहुत से मंचों पर मैं अजय कुमार झा १९७३ की आईडी से लिखता पढता हूं । इसका मतलब ये हुआ कि .....अपने नाम के साथ लगभग पांच लाख परिणाम देखता हूं ..तो लगता है कि ..इस अंतरजाल ने मेरे द्वारा बिताए गए ..एक एक मिनट का सबूत सहेज़ ..कर रख छोडा है ।

ब्लॉगिंग को हमेशा ही मैंने कुछ अलग रूप में देखा है ...सिर्फ़ टाईम पास मेरे लिए वो कभी भी न था और न ही रहेगा । अनेक प्रत्यक्ष और परोक्ष प्रयास मैं पहले भी करता रहा हूं और अभी भी बहुत से प्रयास चल रहे हैं । इन्हीं प्रयासों के तहत आज मुझे आप सबको ये सूचित करते हुए बहुत खुशी हो रही है कि , यदि सब कुछ तय कार्यक्रम और योजनानुरूप हुआ तो बहुत जल्दी ही " ब्लॉग बवाल " नाम की एक पत्रिक , ये पाक्षिक होगी , मासिक होगी या साप्ताहिक मैं नहीं जानता अभी , मगर वो आप सबके सामने होगी .जिसका कवरपेज , से लेकर एक एक पेज , फ़ोटो, और सामग्री तक सिर्फ़ और सिर्फ़ हिंदी ब्लॉग पोस्टों पर आधारित होगा । जहां तक इनके मानदेय की बात है तो ..पहले ही लेखक से उसकी अनुमति ली जाएगी ..और चाहे नाममात्र के लिए ही सही मगर उन्हें पारिश्रमिक भी दिया जाएगा । शुरूआत में , सभी ब्लॉगर्स मित्रों को अलग अलग शहर में उसकी मुफ़्त पचास पचास प्रतियां भिजवाने की योजना है, जो वे अपने यहां मुफ़्त बंटवा सकें .... ताकि उसे लोकप्रिय बनाया जा सके ..। ये योजना अभी भविष्य के गर्भ में है ...मगर जल्दी ही आपके और इस दुनिया के नाम से "ब्लॉग बवाल "जरूर आएगा ।

साथियों का एक बार पुन: धन्यवाद । और इस अनोखी आभासी दुनिया में मुझे वास्तविकता की कहीं कोई कमी कभी भी नहीं दिखी । सब कुछ तो है यहां ..हम , हमारे अपने , पराए , दोस्त , अजनबी, ...और सारी भावनाएं भी ..प्रेम , स्नेह , आशीष, क्रोध , नारजगी ,अपनापन , गुस्सा, हंसी मजाक , हमारे उत्सव , हमारा मातम , हमारी प्रसिद्धि , हमारी बदनामी भी ,..सब कुछ तो है यहां ..क्या नहीं है ..तो फ़िर ये जो भी दुनिया .....आभासी या वास्तविक ..ये दुनिया मेरी है ...हां मेरी है ..और मुझे बहुत पसंद है ॥

44 टिप्‍पणियां:

  1. "ब्लॉगिंग में तीन साल पूरे........अब करूंगा " ब्लॉग बवाल "शुरू ..

    ...........बहुत खूब, लाजबाब !

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी मेहनत को तो रंग लाना ही है .. बहुत बधाई और शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. तीन साल पूरे होने की बहुत बधाई एवं शुभकामनाएँ...




    ब्लॉग बवाल सफलतापूर्वक शुरु करें-अनेक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बधाई तीन वर्ष पूरे करने की. आगे की योजना के लिए शुभकामना. आपके इस काम में यदि आप चाहे तो सहयोग कर सकते हैं क्योंकि हमारी भी इसी तरह की एक योजना पर काम चल रहा है. ब्लॉग की पोस्ट को प्रिंट मीडिया में लाने की. नाम भी पंजीकरण के लिए भेज दिया है.
    जय हिन्द, जय बुन्देलखण्ड

    उत्तर देंहटाएं
  5. आप की रचना 24 सितम्बर, शुक्रवार के चर्चा मंच के लिए ली जा रही है, कृप्या नीचे दिए लिंक पर आ कर अपनी टिप्पणियाँ और सुझाव देकर हमें अनुगृहीत करें.
    http://charchamanch.blogspot.com


    आभार

    अनामिका

    उत्तर देंहटाएं
  6. हम अपने शहर की पचास प्रतिओं का इन्तजार कर रहे हैं !!!!....आपके मुंह में घी शक्कर !!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत बहुत बधाई हो अजय भाई .....ये तीन साल का सफ़र पूरा करने के लिए!

    उत्तर देंहटाएं
  8. तो झा जी,
    तो किबला ब्ल़ॉग बवाल से अब सबको बावला बनाने की तैयरी है...

    अपने बवाल जी से लिखित में परमिशन ले ली है न...

    मज़ाक एक तरफ बहुत अच्छी सोच है...हमें क्या करना है, आदेश दीजिए,,,

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  9. ये दुनिया मेरी है ...हां मेरी है ..और मुझे बहुत पसंद है ॥

    क्या अजय जी!? अकेले अकेले!

    ब्लॉगाधारित पत्रिका की प्रतीक्षा

    उत्तर देंहटाएं
  10. ब्लॉगिंग में 3 वर्ष पूर्ण कर लेने की बधाई आपको

    उत्तर देंहटाएं
  11. युवा लोगों के सहारे तो यह दुनिया ही टिकी हुयी है ..उन्ही की और टुकुर टुकुर देख रही है -
    बधाई ,तीन वार्षिकी पारी के लिए .....

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुंदर ,सार्थक ब्लागिंग के तीन वर्ष पूर्ण होने पर बधाई तथा ’ब्लाग बवाल’ के लिये शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. तीन वर्ष पूर्ण करने की बधाई ...
    पत्रिका के लिए शुभकामनायें ..
    हर रंग है यहाँ वास्तविक दुनिया जैसा ही ...सच है ..!

    उत्तर देंहटाएं
  14. तीन साल पूरे होने की बहुत बधाई एवं शुभकामनाएँ...!!
    ब्लॉग बवाल के के बारे में तो जान कर ही बहु अच्छा लग रहा है ...प्रतीक्षा रहेगी .

    उत्तर देंहटाएं
  15. तीन साल पूरे करने के लिए बधाई ।
    तीन से तीस कब हो जायेंगे --पता ही नही चलेगा ।
    फिर भी , एक बेलेंस बनाये रखना ज़रूरी है ।
    शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. तीन साल पूरे करने पर बधाई . ऎसे कितने ही तीन साल आपकी प्रतिक्षा कर रहे है

    उत्तर देंहटाएं
  17. ब्लॉगिंग के तीन साल पूरे करने के लिए बहुत बहुत बधाई!

    "ब्लॉग बवाल" पत्रिका की सफलता के लिए शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत बधाई हो। आप सार्थक बवाल अवश्य मचाइये, आनन्द आयेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  19. बधाईयाँ और अग्रिम शुभकामनाएं… :)

    उत्तर देंहटाएं
  20. हार्दिक शुभकामनायें
    ब्लॉग बवाल जल्द से जल्द प्रकाशित होकर हमारे हाथों में आये, यही दुआ है जी

    प्रणाम स्वीकार करें

    उत्तर देंहटाएं
  21. तीन साल पूरे होने की बहुत बधाई एवं शुभकामनाएँ...


    ब्लॉग बवाल की प्रतीक्षा

    उत्तर देंहटाएं
  22. तीन साल पूरे होने की बहुत बधाई एवं शुभकामनाएँ... नया कुछ करने की आपसे उम्मीद लगाये बैठे हैं. अग्रिम शुभकामनाएं.

    रामराम

    उत्तर देंहटाएं
  23. तीन साल पूरे करने पर बहुत बहुत बधाई।
    ये नया अन्दाज़ भी पसन्द आया …………शीर्षक देखकर सोच रही थी कि तीन साल पूरे करने पर बबाल किया जा सकता है क्या, क्या लाइसेंस मिल जाता है……………हा हा हा मगर अन्दर तो माजरा ही दूसरा निकला।
    बबाल की सफ़लता के लिये अग्रिम शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  24. तीन वर्ष पूरे करने की बधाई ...ब्लॉग बवाल शुरू होने का इंतज़ार ...वैसे काफी बवाल मच जाता है ..

    उत्तर देंहटाएं
  25. नाम से ही पता चलता है कि पत्रिका बेहद सफल रहेगी और फिर अजय कुमार झा के कारण बवाल भी खूब होना चाहिए ! हार्दिक शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  26. तीन साल पूरे होने की बहुत बधाई एवं शुभकामनाएँ...

    ब्लॉग बवाल सफलतापूर्वक शुरु करें-अनेक शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  27. तीन साल ब्लांगिग के पुरे तो हमारी तरफ़ से बधाई ले ले जी, बहुत सारी शुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं
  28. बहुत बहुत बधाई तीन साल पूरे करने की...तीन के आगे जीरो भी लग जाए...शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  29. डरा रहे हैं हो आप हमको...हुहं
    हम नहीं डरेंगे..कीजिये शुरू ब्लॉग बवाल..हम भी तो देखें ज़रा :)

    उत्तर देंहटाएं
  30. ब्लॉग्गिंग में आपके तीन साल पूरे होने पर आपको बहुत-२ बधाई एवं शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  31. तीन वर्ष पूर्ण करने की बधाई
    पत्रिका के लिए शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  32. तीन साल पूरे होने की बहुत बधाई एवं शुभकामनाएँ...

    उत्तर देंहटाएं
  33. पहले तो बधाई । अब पत्रिका निकालने की सोच ही ली है तो भगवान आपका भला करे । क्योंकि इसमे कितने पापड बेलने पडते है .... खैर इतना तो आप जानते ही होंगे । हमसे जो भी सहयोग हो सकेगा अवश्य करेंगे ।

    उत्तर देंहटाएं

मैंने तो जो कहना था कह दिया...और अब बारी आपकी है..जो भी लगे..बिलकुल स्पष्ट कहिये ..मैं आपको भी पढ़ना चाहता हूँ......और अपने लिखे को जानने के लिए आपकी प्रतिक्रियाओं से बेहतर और क्या हो सकता है भला

साथ चलने वाले

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...