इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

शुक्रवार, 6 फ़रवरी 2009

क्या अन्य ब्लॉग बंद कर दूँ ?

आज हिन्दी ब्लॉग टिप्स की मदद से मैंने अपने दो ब्लोगों को एक करने की कोशिश की । दरअसल मैं एक साथ बहुत से ब्लोगों में नहीं लिख पा रहा था, फ़िर लगा की शायद इससे मैं अपनी बात जयादा अच्छी तरह से कह पाउँगा। मगर अब जबकि मैंने रद्दी की टोकरी को कुछ भी कभी भी में मिला दिया है तो उसमें पोस्ट की कवितायें दो दो बार दिख रही हैं, मगर उससे अधिक मैं अब ये नहीं समझ पा रहा हूँ की क्या अब एक ब्लॉग को हटा दूँ या रहने दूँ,

मैं तो बिल्कुल कन्फुज हूँ , आप लोग ही बताएं क्या करूँ ?

2 टिप्‍पणियां:

  1. jha sahab band mat kariyega....chalne deejiye

    awashya dekhen-
    http://www.aajkapahad.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. chaliye to fir aisaa hee karte hain ki kuchh dino tak ye bhee aajmaa ke dekh letaa hoon.

    उत्तर देंहटाएं

मैंने तो जो कहना था कह दिया...और अब बारी आपकी है..जो भी लगे..बिलकुल स्पष्ट कहिये ..मैं आपको भी पढ़ना चाहता हूँ......और अपने लिखे को जानने के लिए आपकी प्रतिक्रियाओं से बेहतर और क्या हो सकता है भला

साथ चलने वाले

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...