इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

शुक्रवार, 30 अगस्त 2013

कैमरामैन लुट्टन के साथ चंपू जी ,चिंचपोकली "प्याज तक"




टीवी न्यूज़ एंकर चंपू जी : "ये है दरभंगा का वो सुलभ शौचालय जहां पर बताया जाता है कि एक बार यासिन भटकल ने छी छी किया था , आइए पूछते हैं दरबान जी से कुछ खास इस बारे में

दरबान जी बताइए , क्या आपको लगा था कि उस दिन भटकल ने कुछ खास किया था आपके शौचालय में ?

दरबान जी " हां सर , भटकल ने कुछ तो ऐसा किया था उस दिन कि हमारा पूरा सीवर ही अटकल हो गया था उस दिन के बाद

तो देखा आपने किस तरह से हमने एक्सक्लुसिवली आपको बताया कि भटकल ने सुलभ शौचालय में भी अपना दरभंगा मौडयूल छोडा था ।

कैमरामैन लुट्टन जी के साथ मैं ,चंपू जी , सुलभ शौचालय , दरभंगा ,"प्याज तक "

ब्रेक के बाद फ़िर जारी हैं पत्रकार चंपू जी नई रपट के साथ  
न्यूज़ चैनल के पत्रकार चंपू जी : भटकल के अब्बा लटकल से : क्या आपको लगता है कि आपका बेटा बेगुनाह है ?

टीवी दर्शक : चंपू जी , क्या आपको लगता है कि इससे भी बडा बेवकूफ़ी का सवाल कोई और रिपोर्टर पूछ सकता है , या आपने सबसे बडा पूछ लिया ?

चंपू जी : नहीं नहीं , अभी तो इंडिया टीवी वाला रिपोर्टर का भी पूछना बांकी है :)

स्टूडियो से मैं  झिंगुर चौधरी इसी के साथ आपको बताता चलूं कि आज के लिए यही विषय होगा हमारी "हडबडी बहस"  के लिए , तो देखना न भूलें आपके अपने चैनल ,

कल से लेकर आज तक , एक ही चैनल "प्याज तक "


2 टिप्‍पणियां:

मैंने तो जो कहना था कह दिया...और अब बारी आपकी है..जो भी लगे..बिलकुल स्पष्ट कहिये ..मैं आपको भी पढ़ना चाहता हूँ......और अपने लिखे को जानने के लिए आपकी प्रतिक्रियाओं से बेहतर और क्या हो सकता है भला

साथ चलने वाले

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...