इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

शुक्रवार, 13 सितंबर 2013

"मत्युदंड या उम्रकैद" आप क्या चाहते हैं





आज दिल्ली बलात्कार कांड पर आरोपियों की सज़ा का निर्णय आ सकता है । मौजूदा कानूनों के अनुसार चारों को ही " मृत्युदंड या आजीवन कारावास" में से कोई एक सज़ा सुनाई जाएगी । मैं आप सबसे सिर्फ़ एक सज़ा चुनने को कहूंगा और ये भी कि सिर्फ़ यही सज़ा क्यूं । शाम को , इन्हें सुनाई गई सज़ा और उसका प्रभाव और जो सज़ा इन्हें नहीं दी गई , दोनों पर एक कानूनी पोस्ट लिखूंगा , मैं यहां आप सबकी राय भी लेना चाहता हूं ............आप देंगे न ।


9 टिप्‍पणियां:

  1. सिर्फ और सिर्फ मृत्युदंड

    उत्तर देंहटाएं
  2. परिणाम घोषित- मृत्युदंड।
    मैं इससे सहमत हूँ हालाकि यदि वे जिन्दा रहकर काल-कोठरी में घुट-घुटकर रोज मरते तो कलेजे को ज्यादा ठंडक मिलती। लेकिन यह धरती इन पापियों से जितनी जल्दी मुक्त हो जाय उतना ही अच्छा है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. फ़ैसला आ चुका है , आप सबकी प्रतिक्रिया का स्वागत और आभार

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपके ब्लॉग को ब्लॉग एग्रीगेटर "ब्लॉग - चिठ्ठा" में शामिल कर लिया गया है। सादर …. आभार।।

    नई चिठ्ठी : हिंदी ब्लॉग संकलक (एग्रीगेटर)

    कृपया "ब्लॉग - चिठ्ठा" के फेसबुक पेज को भी लाइक करें :- ब्लॉग - चिठ्ठा

    उत्तर देंहटाएं
  5. एक एक लिंक्स को पढ़िए ज़रूर -

    http://bulletinofblog.blogspot.in/2013/10/2.html

    उत्तर देंहटाएं

मैंने तो जो कहना था कह दिया...और अब बारी आपकी है..जो भी लगे..बिलकुल स्पष्ट कहिये ..मैं आपको भी पढ़ना चाहता हूँ......और अपने लिखे को जानने के लिए आपकी प्रतिक्रियाओं से बेहतर और क्या हो सकता है भला

साथ चलने वाले

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...