इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

रविवार, 31 मई 2009

इन्हें ब्लॉगर कहते हैं....






कुछ लोग,
कलम उठाते हैं,
कुछ बताने को,
कुछ सुनाने को,
कुछ दिखाने को,

एक छोटी सी जगह,
जिसका विस्तार,
अनंत है, चुनकर,
सब कुछ,
उडेल देते हैं,

अपने शब्द,
अपनी सोच,
अपनी थकान,
और मुस्कान,
आशा-निराशा,
वाडे-सपने,
अपनी यादें,
अपना आज और ,
आने वाला कल भी,

ये लोग ,
जो लेखक हैं,
छात्र हैं, व्यापारी भी,
कई नौकर हैं,
सरकारी भी ,
कुछ तो ,
अखबार के हैं,
और भी जाने,
किस संसार के हैं,

ये लिखते हैं,
फिर पढ़ते हैं,
पढ़े हुए पर,
फिल लिखते हैं,
और कभी कभी,
करते हैं इसकी,
चर्चा भी,
सुना है कि ,
मिलते भी हैं, अब,
संगोष्ठी के बहाने,

कोई कहता है,
इन्हें निठल्ला,
कोई, कोम्पुटर का,
दुमछल्ला,
कोई देखता है,
इनमें पत्रकारिता का,
समानांतर नजरिया,
कोई मानता है, इन्हें,
एक्सक्लूसिव खबरिया,
कुछ मानते हैं, इन्हें ,
नेट पर बैठे दफ्फर ,

वैसे अक्सर इन्हें,
कहा जाता है ब्लॉगर........

26 टिप्‍पणियां:

  1. वाह अजय जीइतनी सटीक और सुन्दर अभिव्यक्ति बिल्कुल नये अंदाज़ मे बहुत प्रभावित करती हैं आप की रचनायें ऐसे ही लिखते रहिये बहुत बहुत शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  2. ये तो ब्लॉगर पर निबंध हो गया. बहुत अच्छे.

    उत्तर देंहटाएं
  3. सही पहचाने आप ब्लोगर को.. बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  4. ब्लागर अनन्त.....ब्लागर कथा अनन्ता

    उत्तर देंहटाएं
  5. जै ब्लागर गाथा ऒम जै ब्लागर गाथा
    अजय कुमार जो गाता
    सबकी समझ आता
    जै ब्लागर गाथा

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत खूब...!
    ब्लोगर की अच्छी परिभाषा दी आपने ....!!

    [ नाम की बात न करें बस अच्छा लिखने की कोशिश करती हूँ ...आप सब की दुआ ही है ....!]

    उत्तर देंहटाएं
  7. मान गए अजय जी आपको भी.....ब्लोगर की क्या परिभाषा गढ़ी है आपने...अति सुंदर...

    साभार
    हमसफ़र यादों का.......

    उत्तर देंहटाएं
  8. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह ! बहुत बढ़िया परिभाषा गढ़ी है !

    उत्तर देंहटाएं
  10. Apki rachnake baareme kya alagse kahun? Bohot "sachhee" hai..!

    Aur meree sabhi kahaniyan blogpe pooree hee hain...aap kabhi bhi padh sakte hai..isiliye krmank 1 se leke ant tak hain..

    उत्तर देंहटाएं
  11. अच्छा है भाई, हमारी असलियत बतादी.:)

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  12. achaa jee aap sabko apnaa apnaa chehraa ismein dikh raha hain.....kyun hai na.....badhiyaa hai.....pasand karne kaa shukriyaa...

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह...........ब्लोगेर्स का लेखा जोखा बयान करती............ ब्लोगेर को डिफाइन करती............सुन्दर रचना है

    उत्तर देंहटाएं
  14. सरकार, व्यापार ,पत्रकार...........तो ठीक है पर हम जैसे बेकार?:)

    उत्तर देंहटाएं
  15. blogron ko poori tarah se paribhasit kiya hai....sahi hai hum sabhi apni baaton ko khahna chahte hain...aur ye ek bahut hi acchi jagah hai apni baat kahne ke liye....wise to humme abhivyakti ki swatantrta ka adhikaar hai...lekin ye humme vastav main blog ke jariye mila.

    उत्तर देंहटाएं
  16. आपकी टिपण्णी के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!
    बहुत बढ़िया और ज़ोरदार विषलेषण दिया है आपने ब्लॉगर पर! बेहद पसंद आया !

    उत्तर देंहटाएं
  17. अजय जी मेरे ब्लॉग पर आप का स्वागत है और आप की टिप्पणियों का भी ..जब लिखती हूँ तो यह नहीं सोचती की कितने लोग मेरी सोच से सहमत होंगे इसलिए आप के विचारों का हर रूप में स्वागत है। रही बात बहस की तो वाद विवाद नए पहलुओं और सोच को जन्म देता है ... मुद्दा हालांकि मेरे दिल के बहुत करीब है पर फिर भी निष्पक्ष होने का पुरा प्रयास करुँगी..उम्मीद है आपसे इस विषय पर जल्द कुछ पढ़ने को मिलेगा ॥
    आप की कविता पढ़ी..होठों पर एक मुस्कान खेल गई !!

    उत्तर देंहटाएं

मैंने तो जो कहना था कह दिया...और अब बारी आपकी है..जो भी लगे..बिलकुल स्पष्ट कहिये ..मैं आपको भी पढ़ना चाहता हूँ......और अपने लिखे को जानने के लिए आपकी प्रतिक्रियाओं से बेहतर और क्या हो सकता है भला

साथ चलने वाले

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...