इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

बुधवार, 30 अप्रैल 2008

उत्पाद महंगे , उत्पादक भिखमंगे

बचपन में भी मैं उतना ही नालायक और लम्पट मूर्ख था जितना आज हूँ ,उसमें कहीं कोई फर्क नहीं आया है, और अब तो शायद आयेगा भी नहीं, इसलिए आपने देखा ही होगा कि मैं कभी पढाई लिखाई की बातें नहीं करता.लेकिन आज पता नहीं क्यों रह रह कर अर्थशाश्त्र का एक नियम बड़े जोरों से याद आ रहा है। वैसे तो , मेरा मानना ये है कि ये अर्थशास्त्र का विषय लेकर भी जिंदगी में मुझे ऐसा कोई अनोखा लाभ नहीं हुआ कि लगता कि मेरा अर्थशास्त्र के बोरिंग नियमों को पढ़ना सार्थक रहा। खैर ये तो मेरी बात हुई , छोडिये इसे, मैं कह रहा था कि मैंने पढा था कि जब भी मांग अधिक होती है उत्पाद महंगा होता है , और यदि उत्पाद महंगा होगा तो उत्पादक मालामाल होगा। मैंने इस बात को अब तक सच माना हुआ था, हाँ अब तक...

दरअसल हुआ ये कि ;उस दिन अचानक श्रीमती जी की जगह जोश में मैं ख़ुद राशन लाने चला गया, वहाँ जाकर मेरे अंदाजे का क्या रहा, या कि मुझे आंटे दाल का भाव कैसे पता चला, और ये कि मुझे ये नहीं समझ आया कि अब तक सब्जी , फलों वालों ने अपने यहाँ क्रेडिट कार्ड मशीन क्यों नहीं लगाई, इन सब बातों को तो रहने ही दिजीये, मैंने तो ये सोचा कि यार जब आंटे , चावल, दालों, सब्जी आदि का भाव इतना आसमान छू रहा है तो अपने किसान काका गाओं में बैठ कर चांदी कूट रहे होंगे , तभी कहूं कि इतने दिनों से मुझसे बात भी नहीं की। मैंने तय किया कि आज ही फोन मिलाता हूँ।

फोन मिलते ही मैंने तो बस हालचाल ही पूछा कि वो बगैर पूछे ही शुरू हो गए, " बेटा मैं तो पिछले कई दिनों से तुमसे बात करने की सोच रहा था , मगर झिझक के कारण कुछ कह नहीं पा रहा था , दरअसल तुम्हारी काकी, तुम्हारे भैया, भाभी सभी बीमार पड़े हैं और घर में इतने पैसे भी नहीं हैं कि इलाज करा सकूं। यहाँ सबका यही हाल है । वो जो कोने के मकान वाले दिनू चाचा थे उन्होंने तो परसों ही फांसी लगा ली बेटा साहूकार के कर्जे के कारण। तू जल्दी से कुछ पैसे भेज सके तो अच्छा हो।"

मैं सोच में पड़ा हुआ हूँ कि जब हम यहाँ आटे, दाल, चावल , का इतना दाम, चुका रहे हैं तो फ़िर उनका हाल इतना बुरा क्यों हैं जो इसे उगा, कर, पला बढ़ा कर, तैयार करके हमारे पास भेज रहे हैं। ये उलटा अर्थशास्त्र मेरे पल्ले तो पड़ ही नहीं रहा , आप को कुछ समझ आ रहा है तो बतायें.?

2 टिप्‍पणियां:

  1. यह विकट अर्थशास्त्र का सूत्र तो खैर अर्थशास्त्री आलोक पुराणिक ही समझा देंगे मगर हम तो इस ज्ञान को पाकर ही धन्य हुए कि आप कभी पढाई लिखाई की बातें क्यूँ नहीं करते हो. अक्सर सोचा करता था. :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. dhanya bhaag hamaare jo prabhu aap fir se padhaare, waise ye baat to dhartee ke praniyon ke liye keh rahaa tha aap to saakshaat antriksh ke swami hain. kya kahoon bus itnaa hee ki kripaa banaye rakhein.

    उत्तर देंहटाएं

मैंने तो जो कहना था कह दिया...और अब बारी आपकी है..जो भी लगे..बिलकुल स्पष्ट कहिये ..मैं आपको भी पढ़ना चाहता हूँ......और अपने लिखे को जानने के लिए आपकी प्रतिक्रियाओं से बेहतर और क्या हो सकता है भला

साथ चलने वाले

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...